जामुन की खेती कैसे करे


दुनियाभर में जामुन की पैदावार में दुसरे नंबर पर रहने वाले भारत में इसे गुणों का भंडार कहा जाता है वही ये किसानो के लिए भी उतना ही आधिक आमदनी देने वाला फल है  
Advertisement
आइये जाने क्या है जामुन के औषधीय गुण और कैसे करे जामुन की खेती

जामुन के औषधीय गुण

जामुन के पत्ते | जामुन के पत्ते के फायदे

जामुन के पत्तो से लेकर जड़ो तक ये मधुमेह के रोगियों के लिए एक रामबाण ओषधि की तरह  है।

जामुन के पत्ते  दिखने में आम के पत्तो की तरह परन्तु चिकने होते है

जामुन के बीज के फायदे:-

जामुन के बीज के फायदे की बात करे इसमें काबरेहाइड्रेट, प्रोटीन और कैल्शियम भरपूर होता है  एवंम जामुन के बीज को अच्छी तरह से पीस कर पानी के साथ लेने से  पथरी जैसे रोगों में फायदा पहुचता  है

जामुन का सिरका :- पेट संबंधित रोगों के लिए जामुन का सिरका बना कर नियमित रूप से खाना स्वास्थ की नजर अच्छा माना जाता है जामुन को वर्षभर अपने भोजन में शामिल करने का सबसे अच्छा तरीका जामुन का सिरका बना करके उपयोग में लाना चाहिए

जामुन का सिरका बनाने की विधि 

 जामुन का सिरका  घर पर  बनाने के लिए अच्छी तरह से पके हुए जामुन को मिट्टी के बर्तन में नमक मिला कर करीब 8 से 10 दिन तक बर्तन को कपडे से बांध कर अच्छी तरह से धुप में सुखा लेने के बाद इसका रस निकाल कर  सुखा लेने के बाद में  काच की बोतल में भरकर  हम नियमित रूप से जामुन का सिरका का उपयोग हम कर सकते है

 जामुन के सिरके का उपयोग हम सलाद और भोजन में अपने स्वादानुसार भी  कर सकते है

जामुन की खेती के लिए उपयुक्त भूमि :-

जामुन की खेती  लगभग सभी प्रकार की मिट्टी  में की जा सकती है परन्तु अगर इसके लिए सबसे उत्तम मिट्टी की बात करे तो वो अच्छी तरह से चिकनाई  युक्त या  सूखी मिट्टी सबसे उपयुक्त मानी जाती  है।  ध्यान रहे ऐसी भूमि जो की हल्की और रेतीली हो वहा जामुन की खेती ना करे

अच्छी तरह से नमी युक्त उपजाऊ  मिट्टी  जिसका की PH मान 6.5 से 7.5  तक का हो में जामुन की खेती करना चाहिए ।

जामुन की खेती के लिए जलवायु :-

जामुन की खेती के लिए उपयुक्त जलवायु का होना अति आवश्यक होता है जिसमे हमे  उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय जलवायु में अच्छी तरह से बढ़ता है।  जामुन अपने फूल और फल  आने की अवस्था में पर्याप्त  सूखा मौसम  होना अच्छा माना जाता हैं।  वही जामुन पोधे के  शुरुवाती दिनों में बहुत आधिक   ये ठंडा मोसम भी इसके लिए नुकसान दायक होता हैं

जामुन की खेती कैसे करे :-

 

 

जामुन की खेती हम 2 तरीको से कर कर सकते है जिसमे से एक तरीका बीज के द्वारा  इसकी खेती करना एवंम दूसरा तरीका  सब्जियों की तरह ही हम जामुन की खेती कर सकते है दोनों में से  हमे सीड या बीज द्वारा जामुन लगाना जहा देर से फल देता है वही सीधे सब्जियों की तरह इसकी खेती जल्दी और अच्छा परिणाम देता है

जामुन की उन्नत और हाइब्रिड किस्मो की बात करे तो  ये वे किस्मे है जो की बहुत आधिक मात्रा में देश के उत्तर भारत में लगाई जाती है जो की राजा जामुन और कही कही ये राम जामुन के नाम से जानी जाती है इन किस्मो में फल छोटा और स्वाद में मिठा होता है जिसे मानसून की शुरुवात में जून जुलाई में लगाया जाता है

खेती के अतिरिक्त अब आईआईटी रुड़की के वैज्ञानिकों ने जामुन  के  सस्ते सौर सेल बनाने  का तरीका इजाद कर लिया है जो की आने वाले दिनों में जामुन की खेती से होने वाले फायदों को और भी आगे तक ले कर जायेगा |

Leave a comment